LYRIC



पल पल मेरा तेरे ही संग बिताना है
अपनी वफाओं से तुझे सजाना है
दिल चहता है तुझे कितना बताना है
हाँ तेरे सांथ ही मेरा ठिकाना है
अब थक चुके हैं ये कदम
चल घर चले मेरे हमदम
होन्गे जुदा ना जब तक है दम
चल घर चले मेरे हमदम
ताउम्र प्यार ना होगा कम
चल घर चले मेरे हमदम
मेरे रहो तुम और तेरे हम
चल घर चले मेरे हमदम
खूस्बूउओं से तेरी महके हर एक कमरा
दर ओ दीवार नही , काफी है तेरी पनाह
संग तेरे प्यार का जहान बसाना है
जिसमे रहें तुम और हम
चल घर चले मेरे हमदम
मेरे रहो तुम और तेरे हम
चल घर चले मेरे हमदम
खिडकी पे तू खडा देखे हाँ रस्ता मेरा
आंखो को हर दिन मिले यही एक मंजर तेरा
बस अब तेरी बाहों में जानम सो जाना है
जागे हुए रातों के हम

for more lyrics and full lyrics visit at melodylyrics.in

Tags:

Chal (1) - chale (1) - Classical (50) - ghar (1)

SHARE

Your email address will not be published. Required fields are marked *

ADVERTISEMENT