LYRIC

Asal Mein Lyrics

Darshan Raval
क्यूँ ख़ुदा ने दी लकीरें
जिसमें ज़ाहिर नाम नहीं तेरा?
लिख रहा हूँ दर्द सारे
यूँ तो “शायर” नाम नहीं मेरा
“इतना भी क्या बेवफ़ा कोई होता है?”
ये सोचकर रात-भर दिल ये रोता है
असल में तुम नहीं हो मेरे, तुम नहीं हो मेरे
तुम नहीं हो मेरे, तुम नहीं हो मेरे
तुम नहीं हो मेरे, तुम नहीं हो मेरे
तुम नहीं हो मेरे, तुम नहीं हो मेरे
आसमाँ से क्या ख़ता हुई?
तारा उसका टूटा क्यूँ?
लोग मुझसे पूछते हैं
साथ अपना छूटा क्यूँ
क्या मजबूरियाँ?
कैसी ये दूरियाँ? दिल ये समझे ना
होते हैं प्यार में
ऐसे भी इम्तिहाँ मैंने अब जाना
ख़्वाब ही बस रह गए हैं
जिनमें हो तुम हमसफ़र मेरे
असल में तुम नहीं हो मेरे, तुम नहीं हो मेरे
तुम नहीं हो मेरे, तुम नहीं हो मेरे
तुम नहीं हो मेरे, तुम नहीं हो मेरे, तुम नहीं हो मेरे
ਮੰਨਦੇ ਨਹੀਂ ਬੰਦਿਸ਼ਾਂ, ਇਹ ਪਿਆਰ ਨਹੀਓਂ ਝੁਕਦੇ
ਰਾਹ ਤੇਰੀ ਤੱਕਦੇ ਇਹ ਨੈਣ ਨਹੀਓਂ ਰੁਕਦੇ
ਹਿੱਸੇ ਹੈ ਆਈਆਂ ਵੇ ਉਡੀਕਾਂ ਤੇਰੀਆਂ ਜੋ
ਕਿਵੇਂ ਲੁਕਾਵਾਂ? ਮੇਰੇ ਹੰਝੂ ਨਹੀਓਂ ਰੁਕਦੇ
ਹੋਵੇ ਖੈਰ ਸੱਜਣਾ, ਵੇ ਪਾਵੇਂ ਪੈਰ ਸੱਜਣਾ
ਵੇ ਕਦੇ ਸਾਡੇ ਵੀ ਵਿਹੜੇ ਤੁਰ ਆ
ਹਾਏ ਵੇ, ਹੋਵੇ ਖੈਰ ਸੱਜਣਾ, ਵੇ ਪਾਵੇਂ ਪੈਰ ਸੱਜਣਾ
ਵੇ ਬਸ ਮੰਗਦੇ ਹਾਂ ਦਿਲ ਤੋਂ ਦੁਆ
काश तुम फिर लौट आओ
मिट जाएँ सारे ग़म ये जो मेरे
असल में तुम नहीं हो मेरे, तुम नहीं हो मेरे
तुम नहीं हो मेरे, तुम नहीं हो मेरे
तुम नहीं हो मेरे, तुम नहीं हो मेरे, तुम नहीं हो मेरे

SHARE

Your email address will not be published. Required fields are marked *

ADVERTISEMENT